Shanker Leela

 
 
मायातीत माया चान्य त्रयगुण सा'त्य व्यकसन
निर्गुण छुख गुण उल्लंगित माया गुण वुलसन
भूत भावत भूत पंचक देह खर कुर अहमन
दह इन्द्रिये मन बुध हय्थ प्राण बल सा'त्य प्रसरण
सत- चितानंद रूप आत्मन ज़ीव भावस कुर शयन
तद आत्म भाव देह के लूभ प्रकरच बल जीवनन
ॐ शिव शंकर.....

मोह ज़ाल सा'त्य ज़ीव गणडने आव कर्मनयन बन्धनं
काम क्रूधन स्थित रटनस प्यठ मनस बुज़ त इन्द्रियन
द्वन्द भावत राग द्वेष सा'त्य कापि लूग शटशुतरुँ
गुण संग सा'त्य इत गच्छ लोग पुण्य पाप वश बन्धज़न
मुकजारुक उपाय चय शिव मोक्षदा छुख भक्तियन
भव बंधन मुक्लाव्तम छुख च भव भव भयहन
ॐ शिव शंकर.....

निष्प्रपंच च्योन सोरिय प्रपंच वान्छ छ्म कास कन
वन च क्या कर चंचल मन समसार कयन खेंन्चलन
हे हरी हर विरन्च बोज़्तम क्या वन पन्च देवतन
पञ्चवदन मोकलावतम केंह उपाय छुम न चनिए भ्यन
कुनि कुनि कुनि कुनुइ तोष्तम कुनि अन्त छुन हईरी बोन
रुति मुख सुख सुख वरतम मुख सुंदर दुख हन
ॐ शिव शंकर.....

सुम दितम सम्पदा यव सुम रोज़हा समयन
सुम यस गच्छी चान्य दया लगी सुम स्यज़ कर्मन
सोम सोमरस प्रथ गुण किन्य समयन त साध्नन
सुम आहार सुम व्यवहार सुम निद्रा त जागरन
समभालिथ पानस सुम सुम शुजरिथ शायहन
लगि समाध योग सुम सयज़ विज़ि सत गुरु वचनन
ॐ शिव शंकर.....

भक्ति प्रिय भक्ति दायक दय दुस यच्छहन भक्तिज़न
भक्ति भावे भक्ति भावनाये चेयि कुन लगि निशिदिन
भक्तिवात्सल भक्ति छलबल बल फरि गुड विषयन
द्वारि श्रद्अये ध्यान धरिथ रटी प्राण बुध चित त मन
यम नियम - - - दम समि मन स्वरि सुय दय क्षण क्षण
- - - - - - - - - - - ज़िनिथ गच्छी ज़िनिथ भवनन
ॐ शिव शंकर.....

यस सम सन्ति पत्य अचि मन सुस्त आस्यतन व्यभवन
लोर आसयन अन्न धन्न घर बारन त संतानन
वयवहार ध्यान काम्यन प्यठ परद्यन हन्ज़य कमिज़न
प्रारबधुक भोग भोगान भोगवुन ज़न स्वपनन
र'गी ज़न सारसई सा'त्य त्यागीथ सर्व कामनन
गच्छी संसार सर तरिथ लड़ करान सुह ज़न
ॐ शिव शंकर.....

युदवै और कांसि ययि मंग संग मेल्यस साधु ज़न
साधु ज़न युस समि चित्तनाइ ममताइ निशि आसि भ्यान
भयुन रुत क्रुत द्वन्द'भावत छयन दिथ सर्व कामनन
शम' दम' ज्ञान विज्ञानं' सुस्त रुस्त कपटन त कल्पनन
ब्रह्म तत पर आसि आस्यस परेहठ सर्व विषयन
बोड दुर्लभ छु युथ मेलुन ल'भ्य सब हयू साधु ज़न
ॐ शिव शंकर.....

युस कांह यछि पानस रुत क्रुत त्रावि शुद्ध मन
शुद्ध मन भक्ति भावत गुंण कन थावि साधु वचनन
साधु वचनन प्रावि ज़ाग्रत जागि जाग़ हयथ समयन
समय वात्यस शम' यम' नियम पाने तर्येतस मुचरन
दीन दयाल हे कृपाल कांसि ति छन गत चान्य ब्यान
सत भाव' छम सत च'नी सत गथ दिम भगवन
ॐ शिव शंकर.....

त्यलि च्यूनुम बूज़ि क्या छुस यलि वा'चम् चेनवन
अविनाशे ब'ड़ आश पूरतम नाश करहा कल्पनन
आशा पूर' आशा चान्य आश छम राश पपनन
घटि हन्दी गाश चित प्रकाश गाश अन्तम नेत्रन
माशविथ रोज़ सर्व कल्पनन नाशविथ सर्व वासनन
परम आकाश शान्त प्राकाश चई गाशुर गाशरन
पुर्ण 'प्रसाद' गुरु प्रसाद करु प्रसाद भगवन
ॐ शिव शंकर.....

संसारचिय छोच आशा शुरी मुरी तय सन्तनन
भाय बन्ध ते धन सम्पत घरबार तय स्त्रीज़न
सोर असोर भ्रम सोरुय मृगतृष्णा युथ ज़न
शिव च्य म्योन शुरि मुरि तय भाय बन्ध तय सारीज़न
चय मोल मा'ज्य चय सारइ सहा रोज़तम भगवन
ॐ शिव शंकर.....

लूभ छुम न मनि स्वगर्न हुन्द क्षूभ तिन म्ययि नर्कुन
रुत क्रुत सुख दुःख छु भूगुण फल पनन्यन कर्मन
शिव नाव सू'त्य थर थर अचान दुरे यम केंकरण
शिव भक्ति संज़ छाय छांडअन माय पनन्ये देवगण
अख़ शुभ दृष्टि म्यति करतम पाने वरतम भगवन
ॐ शिव शंकर.....

नव नथीश्वर चई छुख नव निधान चई सेवकन
नवि ख़तु नुव नुव बु वु'छ'हथ नुव नुव लगि नवनन
नव गंडीथ नव रटीथ नव प्रणव व्याहरन
नव दक्षिपाल हयथ रोज़तम ईश राच्छ निश विघ्नन
नवदुर्गा करि पक्ष म्योन युस रक्षक छय शर्णन
नव द्वार पुर खस' वुफ़ हयथ नवनीय शिव भवनन
ॐ शिव शंकर.....
Comments
ADVERTIZE HERE